क्या दिल्ली में कोविड -19 के प्रतिबंधों में ढील दी जाएगी? कल फैसला करेगा डीडीएमए

image

दिल्ली ने बीते मंगलवार को अपने कोरोना मामलो में तेज़ी देखी जब 6,028 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए। मंगलवार के मामले सोमवार के 5,760 मामले से अधिक है।

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) कल यानी गुरुवार को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोनावायरस बीमारी (कोविड -19) की स्थिति पर एक महत्वपूर्ण बैठक करने जा रहा है। उपराज्यपाल अनिल बैजल की अध्यक्षता में होने वाली इस बैठक में इस बात पर चर्चा होगी कि क्या दिल्ली में कोविड -19 प्रतिबंधों में ढील दी जानी चाहिए या नहीं। 27 जनवरी को दोपहर 12.30 बजे होने वाली इस बैठक में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी मौजूद होंगे।

इससे पहले दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने पहले ही सिफारिश की है कि राष्ट्रीय राजधानी में छोटे कामगारों को बिना किसी प्रतिबंध के फिर से उनके काम को शुरू करने की अनुमति दी जानी चाहिए। इसके साथ निजी स्कूलों ने भी अधिकारियों से बच्चों को कक्षाओं में वापस लाने का आग्रह किया है।

पिछले हफ्ते, दिल्ली सरकार ने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली के सभी निजी कार्यालयों को कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर 50 प्रतिशत उपस्थिति के साथ कार्य करने की अनुमति दी थी। हालांकि, डीडीएमए ने निजी कार्यालयों में कर्मचारियों की मात्रा को कम करने की सलाह दी थी। इस महीने की शुरुआत में, डीडीएमए ने दिल्ली में एक सप्ताहांत कर्फ्यू लगाने का फैसला किया – शुक्रवार को रात 10 बजे से सोमवार को सुबह 5 बजे तक – कोविड -19 को रोकने के लिए।

पिछले सप्ताह के दौरान, आम आदमी पार्टी के नेतृत्व वाली दिल्ली सरकार, विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और विभिन्न व्यापारिक समूहों ने गवर्नर बैजल से सप्ताहांत कर्फ्यू, रात के कर्फ्यू जैसे जारी प्रतिबंधों पर पुनर्विचार करने की बार-बार अपील की। संक्रमण के रुझान को देखते हुए बाजारों में केवल वैकल्पिक दुकानों को खोलने की अनुमति दी जाए। 13 जनवरी के बाद से दिल्ली में कोरोना के मामले में लगातार गिरावट आ रही है।

Related Stories