कर्नाटक हिज़ाब विवाद : जानिए पाकिस्तान, तुर्की सहित कई मुस्लिम देशों ने क्या कहा ?

image

कर्नाटक हिज़ाब विवाद : कर्नाटक हिजाब विवाद का मुद्दा अब विदेश में भी चला गया है। विदेशी मीडिया में भी इस विवाद की चर्चा होने लगी है। विदेशी मीडिया खासकर, मुस्लिम देशों की मीडिया में भारत की आलोचना खूब हो रही है। इनसभी देशों की मीडिया का कहना है कि भार

बीते कुछ दिनों से कर्नाटक में मुस्लिम लड़कियों को हिजाब पहनकर स्कूल-कॉलेज में एंट्री नहीं दी जा रही है। अब इन दिनों यह मामला तूल पकड़ता जा रहा है। बीते मंगलवार को सोशल मीडिया पर एक वीडियो जम कर वायरल हुआ जिसमें हिजाब पहनी एक लड़की, जिसका नाम मुस्कान बताया गया है, को भगवा धारण किये एक भीड़ ने घेर लिया और 'जय श्री राम' के नारे लगाने लगे। मुस्कान अपने कॉलेज जा रही थी, इसी बीच भीड़ ने मुस्कान को घेरकर धार्मिक नारे लगाए और उसे प्रताड़ित किया। 

कल से सोशल मीडिया पर ये वीडिया काफी ज़्यादा वायरल हो रहा है और अब इस घटना पर विदेशों, खासकर मुस्लिम देशों से कड़ी प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है। पाकिस्तान, तुर्की, बांग्लादेश आदि देशों के अखबारों में इस खबर को प्रमुखता से जगह दी है और भाजपा की नरेंद्र मोदी सरकार पर जम को निशाना साधा है। 

क्या छापा है पाकिस्तान ने अपने अखबारों में ?
पाकिस्तान के प्रमुख अंग्रेजी अख़बार दैनिक डॉन ने भारत के कर्नाटक हिजाब विवाद को लेकर एक ताज़ा रिपोर्ट अख़बार में छापा है। इस रिपोर्ट में अखबार ने लिखा है कि भारत में नरेंद्र मोदी की हिंदुत्ववादी सरकार ने भारत के मुस्लिमों के खिलाफ उत्पीड़न को और ज़्यादा बढ़ा दिया है। और इस कर्णाटक के ताज़ा घटना से भारत के अल्पसंख्यकों में डर का माहौल पैदा कर दिया है। 

पाकिस्तानी अखबार ने आगे लिखा, 'भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दक्षिणपंथी भारतीय जनता पार्टी की सरकार कर्नाटक में है। कर्णाटक भाजपा सरकार के कई प्रमुख नेताओं ने कर्णाटक में हिजाब पर प्रतिबंध को अपना समर्थन दिया है। वही हिजाब पर प्रतिबंध के आलोचकों का कहना है कि 2014 में मोदी के सत्ता में आने के बाद से उन कट्टर समूहों को बढ़ावा मिला है, जो भारत को एक हिंदू राष्ट्र बनाना चाहते है। ये सभी कट्टर लोग देश के 20 करोड़ अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय को कमजोर करना चाहते है। 

क्या छापा है तुर्की ने अपने अखबारों में ?
तुर्की के सरकारी ब्रॉडकास्टर चैनल TRT World ने अपनी एक ख़ास रिपोर्ट में लिखा है कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की राष्ट्रवादी सरकार ने भारत के मुसलमानों के खिलाफ हिंसा और हेट स्पीच को बढ़ाने में काफ़ी मदद की है। इस रिपोर्ट में लिखा गया है कि नरेंद मोदी के 2014 में सत्ता में आने के बाद से भारत में उन कट्टरपंथी लोगों को प्रोत्साहन मिला है जो भारत को एक हिंदू राष्ट्र बनाने का सपना देख रहे हैं। 

क्या छापा है बांग्लादेश ने अपने अखबारों में ?
बांग्लादेश के प्रमुख अखबार ढाका ट्रिब्यून ने अपनी एक रिपोर्ट में लिखा, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दक्षिणपंथी भारतीय जनता पार्टी की सरकार कर्नाटक में है।  इस वज़ह से कर्णाटक राज्य और भाजपा पार्टी के कई नेताओं ने हिजाब पर बैन को अपना समर्थन दिया है। आगे इस अखबार ने आगे लिखा कर्नाटक हिज़ाब की इस घटना से भारत के अल्पसंख्यकों में डर पैदा किया जा रहा है। 

Related Stories